चूमना चाँद को जिद है अब

संपर्क विक्रम से टूट गया, अटल मगर इरादा है। छाती गर्व से चौड़ी हुई , जोश पहले से ज्यादा है।। कल चूक गए तो क्या, चूमेंगे चाँद को जरूर हम। परिस्थितियाँ चाहें कुछ भी हो, ना रुकेंगे ये कदम।। हम लोग हिंदुस्तानी हैं, ये कर्म हमारी इबादत है। हार कभी नहीँ मानते, जूझना हमारी आदत... Continue Reading →

ख्वाब

मुद्दतों बाद आज मैं, देखो उनसे टकराया। इन कांपते होठों से, दिल का हाल सुनाया।। क्या कहूँ, कैसे कहूँ! या घोंट जाऊं लफ्ज सारा। बड़ी उलझन में परा था, मेरा ये दिल बेचारा।। कर के कई जतन मैंने, दिल को फिर समझाया। मुद्दतों बाद आज मैं, देखो उनसे टकराया।। इन कांपते होठों से, दिल का... Continue Reading →

माँ

हमें जब भूख लगे या चोट लगे, या किसी संकट में पड़ जाते हैं। क्षणिक विलम्ब किये बगैर मां, हम तुमको आवाज लगाते हैं।। अपनी दशा की चिंता ना कर, माँ दौड़ी चली आती हो तुम। हालत चाहे जैसी भी हो मेरी, मुझे सीने से लगाती हो तुम।। खरोच भी आ जाए, जो मुझे, माँ... Continue Reading →

Powered by WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: